प्रिय कृषक भाईयों,

       उ0प्र0 सहकारी ग्राम विकास बैंक लि0, अपने स्थापना वर्ष 1959 से लगातार शासन द्वारा संचालित ग्रामीण विकास, गरीबी उन्मूलन, कृषि उन्नयन, ग्रामीण आवास, रोजगार सृजन तथा ग्रामीण क्षेत्र में लघु उद्योगो की स्थापना के लिए ऋण वितरण करते हुए प्रगति के पथ पर अग्रसर है। बैंक प्रतिवर्ष लगभग एक लाख कृषक/सदस्य परिवारों को ऋण वितरण कर रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में किसानों को साहूकारों के चंगुल से मुक्ति दिलाने, राज्य में हरित क्रांति व ग्रामीण विकास में उ0प्र0 सहकारी ग्राम विकास बैंक लि0 का अप्रतिम योगदान रहा है।

       बैंक द्वारा त्वरित गति से सुविधाजनक एवं पारदर्शी प्रक्रिया से ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है एवं लघु व सीमान्त किसानों की उन्नति पर विशेष बल दिया जा रहा है। बैंक आधुनिकतम वित्तीय प्रक्रियाओं को आत्मसात् करते हुए ग्रामीण रोजगार सृजन हेतु तत्पर है। कृषकों को सुगमतापूर्वक ऋण उपलब्ध कराने के प्रायोजन से ऋण प्रक्रिया एवं लेखा पद्वति का सरलीकरण करने हेतु बैंक कटिबद्व है। बैंक द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर भी ऋण वितरण में कीर्तिमान स्थापित करते हुए राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किये गये है। लाभार्थियों एवं बैंक की व्यावसायिक समस्याओं के निराकरण हेतु हेल्प लाईन प्रारम्भ की गयी है जिस पर उपलब्ध अधिकारी 24 घंटे क्षेत्र से आने वाली समस्याओं का निराकरण कर रहे है।

       बैकं की उत्तरोत्तर प्रगति हेतु किसानों, बैकं कर्मियों व प्रशासन तंत्र से सहयोग हेतु निरन्तर अपेक्षा है।

       कृषकों की सेवा हेतु वेबसाइट पर आप अपने अमूल्य सुझाव भी बैंक को उपलब्ध कराते रहे, जिससे कि गुणात्मक सुधार हो सके। बैंक के कार्यो में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से ‘‘ सूचना के अधिकार अधिनियम 2005’’ के प्रावधानों के अन्तर्गत बैंक के प्रमुख कार्य-कलापों व जन सामान्य को वांछित सूचनाएँ बैंक की वेबसाइट पर प्रदर्शित की जा रही है।

      कृषकों की सेवा हेतु सदैव तत्पर आप सभी का बैंक।

प्रबन्ध निदेशक